HR Articles

10 गलतियाँ जो सभी गर्भवती महिलाएं करती हैं!

10 गलतियाँ जो सभी गर्भवती महिलाएं करती हैं!

गर्भावस्था के दौरान की जाने वाली कॉमन मिस्टेक्स 

1: ज़रूरत से अधिक खाना:

आपकी डेली कैलोरीज की आवश्यकता 1800 से 2000 calories होती है. और बच्चे की आवश्यकता जोड़ लें तो 250-300 कैलोरीज और की ज़रुरत पड़ती है. लेकिन हमारी society आने वाले मेहमान को लेकर इतनी excited होती है कि वो गर्भवती महिला को ज़रुरत से कहीं ज्यादा खाने-पीने की सलाह देने लगती है.

आवश्यकता से अधिक weight gain करना आपको इन परेशानियों में डाल सकता है:

  • प्रीक्लम्पसिया (preeclampsia) : इसमें ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है और यूरिन में प्रोटीन की मात्रा काफी बढ़ जाती है, साथ ही हाथ-पांव में सूजन आ जाती है.
  • गर्भावधि मधुमेह (gestational diabetes) ( पढ़ें: मधुमेह के 10 लक्षण और उनकी वजहें)
  • नॉर्मल डिलीवरी ना हो पाना
  • प्रसव के बाद भी कई complications हो सकती है

2. खुद से इलाज करना:

क्या आप जानती हैं कि आपको pregnancy के दौरान बहुत संभल कर दवाएं खानी चाहियें यहाँ तक कि external use की creams भी सम्भल कर use करनी चाहिए?

गर्भावस्था के दौरान डॉक्टर्स पैरासीटामॉल, antacids और मुहांसों की क्रीम भी लगाने से मना करते हैं. कुछ विशेष तरह के beauty treatments भी आपके शिशु के लिए नुकसानदायक हो सकते हैं. पर ज्यादातर महिलाएं इस ओर ध्यान नहीं देतीं. आप ये गलती मत करिए.

3. कम सोना:

ज्यादातर working woman work-life balance बनाने के चक्कर में अपनी नींद से समझौता कर लेती हैं. और कई बार house-wives भी घर के काम-काज में इतनी उलझी होती हैं कि पर्याप्त नींद नहीं ले पाती हैं.

इस बात को समझिये कि गर्भावाथा के दौरान कम सोना आपकी pregnancy-fatigue को और बढ़ा देता है. याद रखिये कि during pregnancy आपकी body में बहुत सारे hormonal और physical changes होते हैं और उस दौरान बॉडी को पहले से अधिक आराम की ज़रुरत होती है. Physically fit रहना आपके और आपके शिशु के लिए बहुत ज़रूरी है. कम सोना आपके शरीर को कमजोर बना सकता है. इसलिए पर्याप्त नींद लें और साथ ही pregnancy related exercise भी करें.

4. जन्म से पहले baby से bond ना करना:

गर्भावस्था के दौरान हर औरत कुछ uncomfortable हो जाती है और कई बार इसी कारण से वो अपने बेबी पर ध्यान नहीं दे पाती. इस बात को ध्यान में रखिये कि माँ और बच्चे का रिश्ता शिशु के दुनिया में आने से पहले ही शुरू हो जाता है. इसलिए समय समय पर अपने पेट को सहलाइए और अपने बच्चे से प्यारी-प्यारी बातें करिए.

5. खुद को मनपसंद चीज खाने से बहुत अधिक रोकना:

हो सकता है प्रेगनेंसी के दौरान आपको कुछ ख़ास चीजें खाने का बहुत मंद करे… कुछ मीठा, मसालेदार…खट्टा, etc. और आप ये भी जानती हैं कि इसे खाना आपके लिए सही नहीं रहेगा. For example: आपको मीठा बहुत पसंद है और आपके सामने आपकी फेवरेट चॉकलेट रखी है, ऐसे में आप gestational diabetes से बचने के लिए उसे avoid करती हैं, लेकिन उसे बिलकुल भी टेस्ट न करना आपके anxiety level को भी बढ़ा देता है, जिसका असर आपके बेबी पर भी पड़ता है.

6. नॉर्मल डिलीवरी से बहुत अधिक डरना

बहुत सी महिलाएं normal delivery में होने वाली pain से बचने के लिए ऑपरेशन (cesarean) कराना उचित समझती हैं. कई बार हॉस्पिटल्स भी अपने फायदे के लिए यही सजेस्ट करते हैं. लेकिन एक बार लेबर पेन सहना c-section या ऑपरेशन कराने से कहीं अच्छा रहता है. Operation कराने पर lower back में एक इंजेक्शन दिया जाता है जिसका दर्द सालों-साल बना रहता है. सी-सेक्शन कराने के बाद रिकवरी में बहुत टाइम लगता है और बेबी को फीड करने में भी दिक्कत हो सकती है.

7. इन्टरनेट पर कुछ पढ़कर घबड़ा जाना

No doubt इन्टरनेट इनफार्मेशन का सबसे बड़ा सोर्स है पर वो सबसे authentic source नहीं है. ज्यादातर चीजें generalize करके लिखी होती हैं और reality में हर एक महिला का केस अपने आप में अलग होता है. लेकिन कई बार महिलाएं health sites में कुछ उल्टा-सीधा पढ़कर stressed हो जाती हैं, जोकि गलत है.

8. ज़रुरत से अधिक आराम करना

कई महिलाएं प्रेगनेंसी में over cautious हो जाती हैं और ज़रुरत से अधिक आराम करने लगती हैं. ऐसा करना fetus की ग्रोथ पर असर डाल सकता है और weight related problems भी cause कर सकता है.

9. डॉक्टर से कंसल्ट करने में बहुत देर करना

बहुत सी महिलाएं ये जानने के बावजूद कि वो गर्भवती हैं, महीनो तक किसी डॉक्टर से कंसल्ट नहीं करतीं. ऐसा करना आपके और आपके बेबी के लिए खतरनाक हो सकता है. Gynecologist आपके मेडिकल हिस्ट्री के मुताबिक़ आपको सही सलाह देती है और समय-समय पर बेबी की ग्रोथ चेक करती है.

10. तनाव और चिंता

पहली बार माँ बनाने वाली महिलाएं pregnancy को लेकर अनावश्यक तनाव ले लेती हैं, जो माँ और शिशु दोनों के लिए ठीक नहीं है. Friends, ये सच है कि तनाव हमारी ज़िन्दगी का अभिन्न हिस्सा है जिससे पूरी तरह से बचा नहीं जा सकता. पर गर्भावस्था भी एक ऐसा समय है जिसमे आपको अधिक से अधिक खुश रहना चाहिए. इसलिए अपना ध्यान आप ऐसी चीजों की तरफ ले जाएं जो आपको अच्छा महसूस कराएं.

8 months ago

By HR Reporters


Social Share : Share      

Comments.....

Submit new comment

Most Viewed

Pearson slashes 3,000 jobs, reduces dividend in latest recovery push...

11 months ago

637,000 new pilots required for airlines over next 20 years: Boeing...

11 months ago

All women crew flies Air India jet to Stockholm from Delhi, Jayant Sinha lauds n...

10 months ago

UPSC IFS Mains examination 2017 to be conducted from December 3, Detailed Applic...

9 months ago

WhatsApp co-founder Brian Acton to leave company...

9 months ago

Gene therapy helps treat life-threatening skin disease...

7 months ago

Walmart gives workers a way to get paid earlier...

6 months ago

Wanted Admin Manager - NEXA/AUTOFIN LIMITED. Click here for more details...

7 months ago

Tata Steel Netherlands workers protest Thyssenkrupp merger...

8 months ago

Air India recruitment 2018: Job notification announced, 10th pass candidates, Gr...

6 months ago

Most Shared

Mass redundancies for Quebec cookie factory...

2 years ago

Trump this: 5 bold predictions for how he’ll impact HR...

2 years ago

InfoTycoon appoints existing President and COO Kevin George to succeed James Dav...

2 years ago

Sushant Dwivedy joins Aspiring Minds as SVP-Enterprise Client Solutions...

2 years ago

Uber introduces special reward programme...

2 years ago

Standard Chartered Bank to reduce 10% corporate & institutional banking staff...

2 years ago

National CineMedia (NCM) creates Affiliate Partnerships team, names Stacie Tursi...

2 years ago

OCC Names New CFO, Treasurer, and Chief Compliance Officer...

2 years ago

Beards at work are now a major turn-off say 61% of female office workers...

2 years ago

First female fast jet pilot of Britain hired as director at PwC...

2 years ago