HR NEWS

डिजिटाइजेशन बढ़ाएगा देश के विकास की रफ्तार, बढ़ेगी प्रति व्यक्ति आय

डिजिटाइजेशन बढ़ाएगा देश के विकास की रफ्तार, बढ़ेगी प्रति व्यक्ति आय

देश में अभी आर्थिक मंदी पर बड़ी बहस चल रही है। निवेशक और एक्सपर्ट्स इस बात का आकलन कर रहे हैं कि इस मंदी का प्रभाव कब तक और कितना हो सकता है। इससे अलग डिजिटाइजेशन एक ऐसा साकारात्मक पहलू है जो लॉन्ग टर्म में देश के विकास के लिए महत्वपूर्ण फैक्टर साबित हो सकता है।

जिससे देश के विकास के गति देने वाले तीन महत्वपूर्ण फैक्टर जन-धन योजना, आधार कार्ड और स्मार्टफोन यूजर्स की संख्या के लिए गेम चेंजर साबित होगा। सरकार ने ऑनलाइन जीएसटी सिस्टम लागू करके डिजिटाइजेशन की रफ्तार बढ़ाई है जो लंबे समय मे देश की अर्थव्यवस्था के लिए फायदेमंद साबित होगा। डिजिटाइजेशन का असर कॉर्पोरेट, हाउसहोल्ड और पब्लिक सेक्टर तीनो पर पड़ेगा। 

बैंको लिए डिजिटाइजेशन होगा फायदेमंद
डिजिटाइजेशन से क्रेडिट डिलिवरी सिस्टम बेहतर होगा। बॉरोअर्स के बारे में जानकारी कम होने की वजह से कई बार बैंक लोन देते समय कई जरूरी सावधानी नहीं बरत पाते हैं और उनका पैसा डूब जाता है। डिजिटाइजेशन के बाद बैंको के पास बॉरोअर्स के बारे में आवश्यक डेटा होगा, इससे लोन देते समय सावधानी बरती जा सकेगी। इससे लोन डूबने की संभावना कम रहेगी। अभी बैड लोन की वजह से अर्थव्यवस्था को सबसे ज्यादा नुकसान उठाना पड़ रहा है।

जीएसटी साबित होगा विकास का पहिया
इस साल जुलाई में लागू हुए जीएसटी की वजह से देश में बिजनस करने वालों के लिए टैक्स सिस्टम ज्यादा पारदर्शी हुआ है। इससे निवेश बढ़ेगा और नौकरियां बढ़ेंगी। ऑनलाइन जीएसटी की वजह से सरकार के लिए टैक्स वसूलने की समस्या काफी हद तक आसान हो गई है। सरकार को पहले के मुकाबले ज्यादा टैक्स मिलने का अनुमान है। यह फैक्टर लॉन्ग टर्म इकनॉमिक ग्रोथ के लिए काफी महत्वपूर्ण साबित होगा।

डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर साबित होगा गेम चेंजर
डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर की सुविधा ने सरकार को काफी फायदा पहुंचाया है। अब सरकारी योजनाओं की सब्सिडी सीधे लोगो के खाते में जा रही है। कैश और चेक से अब पेमेंट नहीं हो रहा है। इसने बिचौलियों को खत्म किया है और भ्रष्टाचार पर काफी हद तक लगाम लगी है। सरकार के पास अब पहले से ज्यादा फंड होगा और इससे प्रति व्यक्ति आय भी बढ़ेगी।

एफडीआई बढ़ाएगा विकास की रफ्तार
भारत में हुए अलग-अलग आर्थिक सुधारों की वजह से अगले कुछ सालों में बड़ी मात्रा में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश आने की संभावना है। एक्सपर्ट्स का अनुमान है कि अगले 10 सालों में देश में एफडीआई अभी की तुलना में दोगुना हो जाएगा। नए जॉब्स क्रिएट होंगे, प्रतिवयक्ति आय बढ़ेगी। एफडीआई देश के अर्थव्यवस्था के लिए आने वाले सालों में पावर बूस्टर का काम करेगा। 

इकनॉमिक टाइम्स से लिया गया

1 year ago

By HR Reporters


Social Share : Share      

Comments.....

Submit new comment

Most Viewed

RBI recruitment 2018: Apply online for Grade B Specialist Officers; check detail...

3 months ago

Argos drivers’ strike over holiday pay and overtime called off - UK HR News...

2 years ago

Intel appoints Prakash Mallya as MD, South Asia...

2 years ago

Big relief for diabetic patients! Quick wound-healing dressing material develope...

6 months ago

24 unbelievable excuses employees have given for skipping work...

2 years ago

Poor dental health ups frailty risk in older men, says study...

10 months ago

Notice pay cut by employer non-taxable...

2 years ago

Vistara appoints Deepa Chadha as SVP-HR (CHRO)...

2 years ago

Cognizant Golden Handshake: Take nine months’ salary and leave on good terms...

2 years ago

Uber introduces special reward programme...

2 years ago

Most Shared

Mass redundancies for Quebec cookie factory...

2 years ago

Trump this: 5 bold predictions for how he’ll impact HR...

2 years ago

InfoTycoon appoints existing President and COO Kevin George to succeed James Dav...

2 years ago

Sushant Dwivedy joins Aspiring Minds as SVP-Enterprise Client Solutions...

2 years ago

Uber introduces special reward programme...

2 years ago

Standard Chartered Bank to reduce 10% corporate & institutional banking staff...

2 years ago

National CineMedia (NCM) creates Affiliate Partnerships team, names Stacie Tursi...

2 years ago

OCC Names New CFO, Treasurer, and Chief Compliance Officer...

2 years ago

Beards at work are now a major turn-off say 61% of female office workers...

2 years ago

First female fast jet pilot of Britain hired as director at PwC...

2 years ago